पान ठेला से बेवफा मोहब्बत तक की कहानी के जरिए छत्तीसगढ़ के कस्बाई किस्से नेटफ्लिक्स पर

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में पले बढ़े अपूर्व धर बड़गैय्या के लेखन और निर्देशन में बनी फिल्म चमन बहार नेटफिल्क्स पर आ गई है।
चमन बहार एक कहानी है आम सी खास कहानी छत्तीसगढ़ के लोरमी नगर पालिका जैसे छोटे से ईलाके की।
नायक अपनी नायिका के लिए अंग्रेजी बोलना सीखें वाली किताब पढ़ता है। प्रेमिका के लिए कुत्ता मारने तक का काम करता है।
मोहल्ले के लौंडों की चुगलबाजी और खूबसूरत लड़की पर रूमाल रख देने के सामान्य घटनाक्रम को बेहतरीन ढंग से दिखाया गया है।

यह भी पढ़ें :सीएम हाउस में पदस्थ जवान निकला कोरोना संक्रमित, जानें किस गेट में थी तैनाती

सरकारी नौकरी के नाम पर तेजाब तक पी लेने जैसी जीजीवशा के दौर में भालू के डर से नौकरी छोड़कर पान ठेले के जरिए नाम बड़ा कर लेने का माद्दा फिल्म में दिखाई पड़ता है।
छत्तीसगढ़ के गांव कस्बो में संवाद का तरीका फिल्म में झलकता है। सुनो डैडी बोलो डैडी जैसे संवाद कहानी में हास्य पैदा करते हैं।
गांजा फूंकते बाबा को भैरव आता है वही रामकली के ईश्क को याद कर मौत को पा लेता है, कहानी में ऐसे दृश्य जान भरते हैं।
कहानी प्रेम की होने के बाद भी हास्य और जमीन पर कस्बों में चलने वाले थोथे वर्चस्व को दिखाता है।
फिल्म में नायक बिल्लू के पिता के साथ मित्रवत प्रेम और शराब को लेकर लिखे गए संवाद हंसाते हैं।
सोनू निगम की आवाज में सजा संगीत फिल्म की कहानी पर सटीक बैठता है।

यह भी पढ़ें डीजीपी अवस्थी ने जारी किया आदेश एसएसपी वर्षा मिश्रा को मिली बड़ी जिम्मेदारी

छत्तीसगढ़ से बालिवुड में नाम कर रहे भगवान तिवारी अपनी ईमेज के अनुसार फिर पुलिस की भूमिका में हैं, जो दम भरकर लड़कों की पिटाई करते नजर आते हैं।
अपूर्व की यह कहानी देश के लोगों को बहुत पसंद आएगी।
मगर छत्तीसगढ़ के दर्शक इस फिल्म को देखते हैं तो वे इससे सीधा जुड़ाव महसूस करेंगे। क्योंकि, फिल्म में संवाद से लेकर सीन तक ऐसा लगता है जैसे यह हमारे ही कस्बे की कहानी हो।
उपासना वैष्णव से लेकर अनुराधा दूबे जैसे छालीवुड के कलाकारों ने भी अभिनय किया है। जितेन्द्र कुमार ने फिल्म में शानदार एक्टिंग की है। संवाद से लगता ही नहीं कि, वे छत्तीसगढ़ की पृष्ठभूमि से नहीं आते कहानी में स्क्रिप्ट को जीतू ने अच्छी तरह उतारा है।

Header Ad