ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत 94वां नंबर पर, 14 प्रतिशत आबादी को नहीं मिल रहा पूरा पोषण… बच्चों कुपोषण की दर 37.4प्रतिशत

नेशनल डेस्क। विश्व भर में भूख और कुपोषण की स्थिति पर नजर रखने वाली वेबसाइट ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत को 94वां नंबर के साथ सीरियस कैटेगरी में रखा गया है। 107 देशों के ग्लोबल हंगर इंडेक्स में यह रैंकिंग जारी की गई है।

देश की इतनी खराब रैंकिंग को लेकर एक्सपर्ट्स का कहना है कि कुपोषण (मैल्नूट्रिशन) से निपटने में ढीले रवैए और बड़े राज्यों की खराब परफॉर्मेंस जैसी वजहों से भारत की रैंकिंग नीचे रही है।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 5 साल तक के बच्चों कुपोषण की दर 37.4प्रतिशत , शारीरिक विकास कमजोर रहने की दर 17.3प्रतिशत है। पांच साल तक के बच्चों में मोर्टेलिटी रेट (मृत्यु दर) 3.7प्रतिशत है। देश की 14प्रतिशत आबादी को पूरा पोषण नहीं मिल रहा। 20 से ज्यादा ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने देशों में भूख और कुपोषण की स्थिति के आधार पर स्कोर देकर उन्हें अलग-अलग कैटेगरी में बांटा है। भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान समेत 31 देश सीरियस कैटेगरी में हैं।

इस रैंकिंग पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट कर कहा है कि “भारत का गरीब भूखा है, क्योंकि सरकार सिर्फ अपने कुछ खास मित्रों की जेबें भरने में लगी है।”

Header Ad