रायपुर, तोपचंद : Anganwadi Protest In Raipur: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के बूढ़ातालाब धरना स्थल में कल सुबह से ही बड़ी संख्या में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं ने अपनी सात सूत्रीय मांगो को लेकर मोर्चा खोल दिया हैं. पिछले लंबे समय से अपनी मांगो को लेकर आंदोलन कर रही है. बात दें कि 5 दिवसीय प्रदर्शन को लेकर प्रशासन को इसकी सूचना लगभग 1 महीने पहले दे दी गई थी.

इस आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रदेश भर के आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका 23 जनवरी को अपने गांव और जिले से राजधानी आई हुई है. 23 जनवरी से 27 जनवरी तक 5 दिनों का महापड़ाव का आयोजन किया जाना है और दिन-रात प्रदर्शन स्थल पर प्रदर्शन होना था. जिसको देखते हुए प्रदेश भर के आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका यहां पहुंचे हैं. 23 जनवरी को प्रदर्शन की अनुमति नहीं मिलने के कारण सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं.

आंगनबाड़ी केन्द्रो मे लटके ताले

बता दें की इन आंदोलन की वजह से 46 हजार 660 आंगनबाड़ी और 6 हजार 548 मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रो मे ताले लगे हुए है. लगभग एक लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका रायपुर में प्रदर्शन कर रही है.

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मांग

शासकीय कर्मचारी घोषित करते तक जन घोषणा पत्र में किए गए लिखित वादा कलेक्टर दर को पूर्ण किया जाए, सामाजिक सुरक्षा के रूप में मासिक पेंशन और समूह बीमा योजना हेतु नीति निर्धारित कर इसको लागू कराने का कष्ट करें इसके साथ ही सेवानिवृत्त और मृत्यु होने पर कार्यकर्ताओं को 5 लाख रुपए और सहायिकाओं को 3 लाख रुपए की राशि एकमुश्त भुगतान किया जाए, मिनी आंगनबाड़ी को पूर्ण आंगनबाड़ी बनाने के साथी कार्यकर्ताओं को आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के रूप में नियुक्त किया जाए.