मकर संक्रांति के साथ ही घरों में विवाह की तैयारियां शुरु हो चुकी हैं. बहुत सारे युवक सुंदर एवं सुघढ़ जीवन साथी की तलाश कर रहे होंगे. अगर आप भी इस कतार में हैं और एक अच्छी जीवन संगिनी चाहते हैं, और अच्छी लड़की की तलाश में किसी तरह की दुविधा महसूस कर रहे हैं तो आप चाणक्य नीति की मदद ले सकते क्योंकि आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों में स्त्री पर काफी कुछ लिखा है.

आचार्य के अनुसार किसी भी व्यक्ति का चरित्र उसके व्यक्तित्व की असली सुंदरता होती है, क्योंकि व्यक्ति का गुण ही उसका चरित्र होता है. सभ्य समाज के लोग अपने चरित्र की रक्षा उसी तरह करते हैं जैसे एक व्यापारी अपने धन की रक्षा करता है.

चरित्रहीन व्यक्ति अपने स्वार्थ के लिए झूठ बोलता है, धन का अपव्यय करता है, और अपनी हरकतों से अपना सब कुछ खो देता है. यहां आचार्य ने स्त्री के तीन विशेष गुणों का वर्णन किया है. अगर आपको योग्य जीवन-संगिनी की तलाश है तो ये आचार्य के तीन टिप्स आपके लिए काफी उपयोगी साबित हो सकते हैं.

* आचार्य चाणक्य की नीतियों में स्त्रियों के संदर्भ में काफी कुछ वर्णित है. आचार्य के अनुसार एक स्त्री घर को स्वर्ग बना सकती है और नर्क भी. अगर आप एक सुयोग्य पत्नी की चाहत के साथ किसी स्त्री को परख रहे हैं, तो उसकी खूबसूरती या आकर्षक काया पर न जाकर उसकी सौम्यता, उसके सुशील व्यवहार एवं उसके गुणों को परखिये. क्योंकि किसी भी स्त्री की यही बात आपके दाम्पत्य जीवन को खूबसूरत और स्थायित्व प्रदान करते हैं. इसके साथ ही यह भी ध्यान रखें कि कोई भी लड़की प्रदर्शन की चीज नहीं, क्योंकि वह भी आप की तरह सोच-समझ रखने वाली इंसान है. कोई लड़की आपकी पसंद पर खरी उतरती है, तो जरूरी है कि आप भी जानें कि क्या आप भी उसकी कसौटी पर खरे उतरे हैं? 

* चाणक्य नीति के अनुसार अगर कोई स्त्री आपसे सच्चा प्यार करती है, आपकी हर मोड़ पर परवाह करती है, तो उस स्त्री का साथ कभी नहीं छोड़ना चाहिए. भविष्य में वह स्त्री आपसे झगड़ा भी करती है तो आपको संयम से काम लेते हुए उसे पूरा मान-सम्मान दे. क्योंकि उसके झगड़े के पीछे भी आपका किसी न किसी रूप में हित छिपा होगा.

* एक योग्य जीवन संगिनी के लिए अगर आप किसी लड़की को देख-परख रहे हैं तो यह जानने की कोशिश अवश्य करिये कि वह धर्म-कर्म आदि में भी आस्था रखती है या नहीं. ध्यान रखिये कि धर्म-कर्म में विश्वास रखने वाली लड़की आपके परिवार के लिए ओवरआल अच्छी ही साबित होगी.