Topchandराजनीतिराज्यरायपुर

नड्डा के हाथों सम्मान पर बवाल! बूथ अध्यक्ष कोई और, सम्मान कराया दूसरे का, जाने पूरा मामला…

तोपचंद, रायपुर। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के रायपुर दौरे के दौरान यहां हुए कार्यक्रम में उन्होंने भाजपा बूथ अध्यक्षों का सम्मान किया। अब यह सम्मान कार्यक्रम चर्चा का विषय बन गया है। क्योकि इस कार्यक्रम में किसी और को अध्यक्ष बताकर किसी और का सम्मान करा दिया गया। अब पार्टी मंे बवाल होने लगा है और इस बात को लेकर पार्टी के अंदरूनी खेमें में हलचल भी शुरू हो गया है।

ये भी पढ़ें: निमंत्रण मामलाः डॉ. वैद्य के बयान पर बोले सीएम भूपेश- हमने देखने बुलाया है, उद्घाटन कराने नहीं…

इसमें शिर्ष नेताओं पर आरोप लगाते हुए अपने चहेतों का सम्मान कराने की बात कही जा रही है। ऐसे में कई भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं में रोष है। आपको बता दें कि प्रदेश के कार्यकर्ताओं में जोश भरने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा रायपुर पहुंचे थे। ऐसे मंे उनको सुनने के लिए प्रदेशभर के कार्यकर्ताओं में उत्सुकता थी और प्रदेशभर से कार्यकर्ता रायपुर पहुंचे हुए थे। इस दौरान सम्मान कार्यक्रम भी रखा गया। लेकिन अपने करीबी को सम्मानित करवाने प्रोटोकॉल से हटकर दूसरे व्यक्ति का सम्मान करा दिया गया। ऐसे में कई कार्यकर्ताओं में रोष है। इसके अप्रत्यक्ष रूप से आरोप जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी पर लग रहे हैं।

.

अब भाजपा के सोशल मीडिया ग्रुपों में यह मामला उठने लगा है। जिसके कुछ फूटेज भी वायरल हो रहे है। इसमें साफ तौर पर कार्यकर्ताओं की नाराजगी देखी जा सकती है। क्षेत्रीय संगठन महामंत्री अजय जामवाल तक भी बात पहुंचने की खबर है। हालांकी अभी पार्टी की ओर से इस पर कुछ नहीं कहा गया है।

ये भी पढ़ें: CG News: दूधाधारी मठ समिति बस स्टैंड के सामने बना रही कमर्शियल कॉम्प्लेक्स, हाई कोर्ट ने भेजा नोटिस…

राष्ट्रीय अध्यक्ष के हाथों बूथ अध्यक्षों का हुआ था सम्मान

दरअसल, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा रायपुर मंे अलग-अलग जिलों से आए बूथ अध्यक्षों का सम्मान कर रहे थे। विधायक सौरभ सिंह मंच संचालन कर रहे थे उन्होंने बूथ अध्यक्ष के तौर पर रायपुर के भाजपा नेता असगर अली का नाम लिया। इस पर असगर अली राष्ट्रीय अध्यक्ष के हाथों सम्मान पाकर चले गए। अब इस मामले को लेकर कई भाजपा नेता और कार्यकर्ता यह दावा कर रहे हैं कि, असगर अली बूथ अध्यक्ष है ही नहीं।

जानबूझकर किसी और के जगह उनका सम्मान कराया गया है। अब यह बाते भी सामने आ रही है कि, श्रीचंद सुंदरानी के करीबी अकबर अली का भाई होने की वजह से असगर अली को सम्मानित कर दिया गया। सोशल मीडिया पर असगर अली ने खुद को अल्पसंख्यक मोर्चा के नेता के तौर पर प्रचारित किया है।

Related Articles