Topchandदेश-विदेश

Google Doodle Today : संगीत उस्ताद भूपेन हजारिका को Google ने डूडल के साथ दी श्रद्धांजलि

Google Pays Tribute To Bhupen Hazarika With Doodle

नेशनल डेस्क, तोपचंद: Google Pays Tribute To Bhupen Hazarika With Doodle: गूगल समय समय पर अलग अलग तरीके से देश दुनिया में अपने काम के लिए मशहूर लोगों को अपने डूडल के माध्यम से सम्मानित करता आया है। Google ने अब एक रचनात्मक और कलात्मक डूडल के साथ डॉ भूपेन हजारिका की 96वीं जयंती मना रहा है। डॉ भूपेन हजारिका(BhupBhupen Hazarikagoogle doodleen Hazarika) एक लोकप्रिय और प्रशंसित असमिया-भारतीय गायक, संगीतकार और फिल्म निर्माता थे।

उन्होंने कई फिल्मों के लिए संगीत भी तैयार किया। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के मशहूर गायक और फिल्मकार भूपेन हजारिका के जन्मदिन पर (Celebrated singer and filmmaker Bhupen Hazarika’s birthday) गूगल ने डूडल बनाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। भूपेन हजारिका का जन्म 8 सितंबर 1926 को असम के सादिया में हुआ था। आज के गूगल डूडल में डॉ भूपेन हजारिका हारमोनियम बजाते देखा जा सकता है। डूडल को मुंबई की गेस्ट आर्टिस्ट रुतुजा माली ने बनाया है।

कौन थे भूपेन हजारिका ?

भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम से एक बहुमुखी प्रतिभा के गीतकार, संगीतकार और गायक थे। अपनी मूल भाषा असमिया के अलावा भूपेन हजारिका हिंदी, बंगला समेत कई अन्य भारतीय भाषाओं में गाना गाते रहे थे। भूपेन हजारिका के गीतों ने लाखों दिलों को छुआ है। हजारिका की असरदार आवाज में जिस किसी ने उनके गीत “दिल हूम हूम करे” और “ओ गंगा तू बहती है क्यों” सुना वह इससे इंकार नहीं कर सकता कि उसके दिल पर भूपेन दा का जादू नहीं चला।

डूडल की खास पेशकश ?

Google डूडल आज, गुरुवार, 8 सितंबर को संगीत के साथ भूपेन हजारिका के संबंध को स्पष्ट रूप से चित्रित करता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि हजारिका पूर्वोत्तर भारत के प्रमुख सामाजिक-सांस्कृतिक सुधारकों में से एक थे। उनकी रचनाओं और संगीत रचनाओं ने सभी क्षेत्रों के लोगों को एकजुट करने में मदद की।

आपको बता दें कि हुपेन हजारिका  पूर्वोत्तर भारत की सबसे प्रतिष्ठित सांस्कृतिक हस्तियों में से एक हैं। जिनकी भारत और विदेशों में बड़ी संख्या में प्रशंसक हैं। संगीत उस्ताद, संगीतकार, कवि, गीतकार और गायक अपनी राजनीतिक चेतना और सामाजिक प्रतिबद्धता के लिए जाने जाते थे। न केवल असम बल्कि पूरे पूर्वोत्तर की लोक परंपराएं, लोग और संस्कृति उनकी संगीत रचनाओं के केंद्र में रही। दस भाई-बहनों में सबसे बड़े, भूपेन हजारिका का जन्म 8 सितंबर 1926 को असम के सादिया जिले में नीलकांत और शांतिप्रिय हजारिका के घर हुआ था।

भूपेन हजारिका के नाम हैं यह पुरस्कार ?

भूपेन दा के नाम से मशहूर हजारिका को 1975 में सर्वोत्कृष्ट क्षेत्रीय फिल्म के लिये राष्ट्रीय पुरस्कार, 1992 में सिनेमा जगत के सर्वोच्च पुरस्कार दादा साहब फाल्के सम्मान से सम्मानित किया गया। इसके अलावा उन्हें 2009 में असोम रत्न और इसी साल संगीत नाटक अकादमी अवॉर्ड, 2011 में पद्म भूषण जैसे कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। 2019 में इन्हें देश का सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न देने की घोषणा की गई। भूपेन हजारिका को 70 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर इन्हें भारत रत्न से नवाजा गया।

Related Articles