Topchandदेश-विदेशराज्य

हजारों गायों की लाशों से भरा मैदानः लंपी वायरस से तड़प-तड़पकर मर रहीं गायें…

Lumpy Virus in Rajasthan: राजस्थान में लंपी बीमारी का कहर बना हुआ है। यह लंपी बीमारी देश के कई राज्यों में भी फैल रहा है...

नेशनल डेस्क, तोपचंद। Lumpy Virus in Rajasthan: राजस्थान में लंपी बीमारी का कहर बना हुआ है। यह लंपी बीमारी देश के कई राज्यों में भी फैल रहा है। इसका ज्यादा असर राजस्थान के बीकानेर में है। यहां बीमारी के कारण गायें तड़प-तड़पकर मर रही हैं। खुले आसमान के नीचे हजारों की संख्यां में गौवंशों की लाश पड़ी हुई है। इससे आम लोगों में भी बीमारी बढ़ने का खतरा है।

ये भी पढ़ें: किंग्सवे से राजपथ और अब कर्तव्यपथ, 102 सालों में तीसरी बार बदला गया नाम

लंपी बीमारी से पीड़ित गाय

बीकानेर में हर रोज 300 से अधिक गायों की मौत

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार बीकानेर में रोजाना सैकड़ों की संख्या में गौवंश दम तोड़ रही है। यहां लगभग 300 गायें हर रोज मर रहीं है। राजस्थान में अब तक बीते एक माह में 50 हजार से ज्यादा गायों की मौत हो चुकी है। वहीं निगम प्रशासन की ओर से बीकानेर शहर से महज पांच किलोमीटर दूर जोरबीर में गायों के शव को खुले में फेंका गया है। हजारों गायों के शवों को जंगली जानवर और चील गिद्ध नोंच रहे हैं। दूर-दूर तक यहां का दुर्गंध फैल रहा है।

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में 9 सितम्बर से 33 जिलेः CM भूपेश बघेल करेंगे दो नए जिलों का शुभारंभ…

हजारों गायों की लाश से भरा मैदान

जोधपुर, जालोर, पाली और बीकानेर में हालात सबसे अधिक खराब हैं। वहीं, प्रशासन और स्थानीय लोग गायों और दूसरे मरे जानवरों को शहर से ही करीब दस किलोमीटर दूर जोरबीर के खुले डंपिंग यार्ड में फेंक रहे हैं।

ये भी पढ़ें: Raipur Crime: पति ने सोई हुई पत्नी पर कुल्हाड़ी से किया हमला, नहीं हुई मौत तो गला दबाकर मार डाला

क्या है लंपी बीमारी?

लंपी वायरस त्वचा रोग (एलएसडी) एक वायरल बीमारी है जो मवेशियों को प्रभावित करती है। यह रक्त.पोषक कीड़ों, जैसे मक्खियों और मच्छरों की कुछ प्रजातियों, या टिक्स द्वारा प्रेषित होता है। यह त्वचा पर बुखार और गांठ का कारण बनता है और इससे मवेशियों की मृत्यु हो सकती है।

Related Articles