विधानसभा

हत्या, बलात्कार, अपहरण और डकैती में राजधानी नम्बर वन, न्यायधानी दूसरे और दुर्ग तीसरे स्थान पर

रायपुर। राज्य में हत्या, बलात्कार, अपहरण और डकैती के सर्वाधिक मामलें राजधानी रायपुर में दर्ज किये गए हैं। वहीं बिलासपुर दुसरे और दुर्ग तीसरे स्थान पर है। विधानसभा, में आज लोरमी विधायक धरमजीत सिंह ने गृह मंत्री से सवाल किया कि वर्ष 2018-19 और 2019-20 में जिला रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर में कितनी हत्या, बलात्कार, डकैती, अपहरण और डकैती के कांड हुए है? इन प्रकरणों में कितने आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं और कितने आरोपी फरार हैं?

गृहमंत्री ने जवाब दिया, रायपुर में पिछले दो सालों के आंकड़ों के अनुसार हत्या, बलात्कार, डकैती और अपहरण की कुल 1397 वारदातें हुई हैं, जबकि बिलासपुर में सबसे अधिक 980 और दुर्ग में सबसे कम 857 वारदात हुई हैं।

साल 2018-19 में हत्या की कुल वारदातें रायपुर में 58, बिलासपुर में 57 और दुर्ग में 44 हुई है। बलात्कार के मामलों में रायपुर सबसे आगे 230, दुर्ग दूसरे स्थान पर 149 और बिलासपुर सबसे कम 95 प्रकरण दर्ज की गई है। अपहरण में रायपुर सबसे आगे 429, बिलासपुर में 343 और दुर्ग में 274 दर्ज किये गए है। गोलीकाण्ड की वारदात रायपुर में दो, और दुर्ग बिलासपुर में एक-एक दर्ज हुआ है। वहीं डकैत की घटना रायपुर 7, दुर्ग एक और बिलासपुर शून्य पर है।

साल 2019-20 की बात करें तो, हत्या की कुल वारदातें रायपुर में 71, बिलासपुर में 46 और दुर्ग में 29 हुई है। बलात्कार में रायपुर सबसे आगे 230, दुर्ग दूसरे स्थान पर 132 और बिलासपुर सबसे कम 120 प्रकरण दर्ज की गई है। अपहरण में रायपुर सबसे आगे 366, बिलासपुर में 316 और दुर्ग में 226 दर्ज किये गए है। गोलीकाण्ड की वारदात रायपुर में 4, और दुर्ग बिलासपुर में एक-एक दर्ज हुआ है। वहीं डकैत की घटना रायपुर 7, बिलासपुर एक और दुर्ग शून्य पर है।

साल 2018-19 में कुल प्रकरण रायपुर में 726, बिलासपुर 496 और दुर्ग में 469 प्रकरण हुए है, साल 2019-20 में रायपुर में कुल 671, बिलासपुर में 484 और दुर्ग में 388 मामले सामने आये हैं। पिछले दो साल में इन तीन जिलों में कुल 3234 मामले दर्ज हुए है, जबकि गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने धरमजीत सिंह का जवाब देते कहा कि इन प्रकरणों में कुल 1953 आरोपी गिरफ्तार किया गया है, जबकि 54 आरोपी इन प्रकरणों में फरार है।

यहां भी देखें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.