रायपुर। विधानसभा के पांचवे दिन पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के एक सवाल पर मंत्री अनिला भेड़िया ने जवाब देते हुए खेद जताया है। दरअसल अजीत जोगी ने अनिला भेड़िया से प्रश्नकाल के दौरान सवाल किया था कि निःशक्तों के पुनर्वास के लिए केंद्र ने दिव्यांग शब्द दिया है। समाज कल्याण विभाग की ओर से उत्तर में विकलांग शब्द का इस्तेमाल किया गया?

इस पर महिला बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया ने जवाब देते हुए कहा कि विकलांग शब्द के लिए खेद जताते हैं, केंद्र से निर्देश आया है दिव्यांग कहने के लिए।

इसके बाद अजित जोगी ने कहा- विकलांग मितान और बहुउद्देश्य पुनर्वास कार्यकताओं को सरकार नियमित करेगी।

अनिला भेड़िया ने जवाब दिया : अनियमित लोगों को नियमित करने के लिए एक साथ नीति बनेगी। सभी विभागों का एक साथ बैठकर निर्णय होगा। जनघोषणा पत्र में है इसलिए इस पर निर्णय होगा समय सीमा तय नहीं है।

फिर अजित जोगी ने कहा 2004 से योजना चल रही है राज्य सरकार ने इसके बाद भी इसे जारी रखा। इन्हें 400 रुपये महीने का मिलता है। 2002 से आज तक 400 रुपये प्रतिमाह मिल रहे हैं। मिस्त्री और घर मे काम करने वाले भी इससे ज्यादा कमाते हैं। इसे बढाने का आश्वासन दीजिए !

मंत्री अनिला भेड़िया ने कहा – 2013-14 में यात्रा भत्ता जोड़कर 500 रुपये हो गया है। सदस्य की चिंता सबकी चिंता है।

अजीत जोगी ने कहा – व्हील चेयर पर चलने वाले को सार्वजनिक जगह पर जाने का प्रावधान है। यदि केस दायर कर दूं तो 6 माह से 5 साल की सजा का प्रावधान है।विधानसभा में प्रमुख सचिव से नहीं मिल पा रहे हैं। विधानसभा भी इसी दायरे में आता है। यहां भी व्यवस्था होनी चाहिए।

यह भी देखें

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *