पढ़ने लायक

राज्यपाल के अभिभाषण में इन मुद्दों को मिली जगह

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा का बजट सत्र सोमवार से शुरू हो गया है। सदन की कार्यवाही से पूर्व राज्यपाल अनुसुइया उइके ने अपना अभिभाषण पढ़ते हुए कहासरकार ने रामवनगमन पथ , और विवेकानंद स्मारक बनाकर अच्छा संदेश दिया है।अजा, अजजा ने अल्पसंख्यक समेत सभी वर्गों में नई उम्मीद जताई है। नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव पारदर्शिता से सम्पन्न हुए। मेरी सरकार ने बस्तर के आदिवासी परिवारों , जस्टिस ए के पटनायक की अध्यक्षता में कमेटी बनाई, इसकी अनुशंसा में आदिवासी रिहा होंगे।सरकार गठन के एक माह में लोहंडीगुड़ा के किसानों की जमीन वापस किया। सरकार आदर्श पुनर्वास कानून का पालन कर रही है।

राज्यपाल ने आगे कहा कि सरकार ने सामूहिक वनाधिकार पट्टा दिया जा रहा है।बस्तर के अबूझमाड़ क्षेत्र की चिंता की है, उस क्षेत्र को वनाधिकार पत्र देने की चिंता कर रही है। वन समितियों को सरकार प्रशिक्षण दे रही है।हमारी सरकार ने तेंदूपत्ता 2500 से बढ़ाकर 4000 रुपये प्रति मानक बोरा किया है और
602 करोड़ का भुगतान किया जा रहा है । 1000 स्थानों पर वन धन विकास केंद्र की स्थापना की है जहां वनोपज का संग्रहण किया जा रहा है। सरकार लेमरू एलिफेंट रिजर्व बना रही है। वन, जन पारितंत्र की दिशा में सरकार काम कर रही है।प्रिमैट्रिक छात्रावास में रहने वाले छात्रों को 1 हजार रुपये प्रतिमाह छात्रवृत्ति दिया जा रहा है।

मेरी सरकार शिक्षा विभाग में शिक्षकों की भर्ती कर रही है। बस्तर और सरगुजा सम्भाग में स्थानीय लोगों को भर्ती करने कनिष्क चयन बोर्ड का गठन किया है। मेरी सरकार ने बस्तर , सरगुजा, मध्यक्षेत्र में स्थानीय विधायको को अध्यक्ष बनाकर लोकतंत्र को मजबूत किया है। प्रदेश में 28वें जिले के रूप में गौरेला पेंड्रा मरवाही अस्तित्व में आया है। 704 नई ग्राम पंचायतो का गठन किया गया है, 496 अनुसूचित क्षेत्रो में है।
मेरी सरकार ने सार्वभौम पीडीएस के माध्यम से 65 लाख परिवारों को 35 किलो चावल देने का निर्णय लिया है। मेरी सरकार ने मक्के की खरीदी समर्थन मूल्य पर की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.