रायपुर। राज्य में धान खरीदी समाप्त होने के बाद अब सरकार किसानों को अंतर राशी देने की कवायद शुरू करने वाली है। वहीं न्याय योजना के तहत दिए जाने वाले इस अंतर राशी के नाम के आगे भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी का नाम जोड़ने की भी सुगबुगाहट है। छत्तीसगढ़ विधानसभा सत्र शुरू होने से पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने कैबिनेट मंत्रियों की बैठक बुलाई है। इस बैठक में राजीव गाँधी न्याय योजना के लिए प्रस्ताव लाने की सरकार तैयारी कर रही है। इस बैठक के बाद जब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल वित्तीय वर्ष 2020-21 का बजट पेश करेंगे तब इसकी घोषणा की जा सकती है।

बता दें की किसानों को अंतर राशी देने के लिए सीएम भूपेश ने कृषि मंत्री की अध्यक्षता में उप समिति का गठन किया था। इस समिति को निर्देश दिए गए थे कि अन्य राज्यों में किसानों को समर्थन मूल्य देने के लिए जो योजनाएं चल रही है इसका अध्यन करें और शासन को इसकी रिपोर्ट सौंपे। कहा जा रहा है कि इस समिति ने कई रिपोर्ट का अध्यन करने के बाद रिपोर्ट तैयार कर ली है। कल होने वाली कैबिनेट की बैठक में इस रिपोर्ट को रखा जाएगा। साथ ही इस पर चर्चा कर इस पारित किया जा सकता है।

क्रूज में होनी थी बैठक, पर हुई रद्द

विगत 8 फरवरी को हुई भूपेश कैबिनेट की बैठक में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए प्रस्ताव आया था कि एकाद कैबिनेट बैठक कोरबा के सतरेंगा जलाशय में रखी जाये। इस पर मुख्यमंत्री की सहमति के बाद सतरेंगा जलाशय के क्रूज में बैठक की घोषणा की गई थी। लेकिन, बाद में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव की माता देवेंद्र कुमारी के दशगात्र कर्यक्रम के चलते इसे रद्द कर दिया गया।

यह भी पढ़ें

https://topchand.com/selection-will-be-done-on-april-16-in-this-place-of-chhattisgarh/

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *