रायपुर। छत्तीसगढ़ में एक बार फिर नक्सलियों के खिलाफ ‘ऑपरेशन प्रहार’ चलाया जा रहा है। इस ऑपरेशन में लगभग 1800 से अधिक जवान नक्सलियों की मांद में घुसकर उनपर वार कर रहे हैं। नक्सलियों के खिलाफ इस आंदोलन में अब तक एक जवान की मौत हुई है, जबकि एक जवान बुधवार को घायल हुआ था, जिसे बुधवार देर रात उपचार के लिए राजधानी लाया गया है।

पुलिस महानिदेशक डी.एम. अवस्थी के अनुसार यह अभियान तेलंगाना की सीमा से लेकर महाराष्ट्र की सीमा तक एक साथ चलाया जा रहा है। इसमें छत्तीसगढ़ के एसटीएफ और डीआरजी के लगभग 1400 जवान और सीआरपीएफ के कोबरा के 450 जवान शामिल हैं।

यह अभियान सघन नक्सल प्रभावित इलाके किस्टाराम, पामेड़ और अबूझमाड़ के बीच के जंगलों में चलाया जा रहा है। इस अभियान में सुकमा के टोडामरका इलाके में एसटीएफ और डीआरजी के साथ हुई मुठभेड़ में एक माओवादी का शव हथियार के साथ बरामद हुआ था और 4 माओवादियों के गंभीर रूप से घायल होने की सूचना मिली थी। इस घटना में एसटीएफ का एक जवान भी घायल हुआ था।

इसके अलावा नारायणपुर जिले के पुसपाल इलाके के इकुल गांव के पास एसटीएफ और डीआरजी के साथ एक अन्य मुठभेड़ में एक माओवादी का शव एवं कुछ माओवादियों के घायल होने की सूचना है। ऑपरेशन अभी जारी है जिसमे कई टीमें बस्तर की सीमा के जंगलों में में सर्चिंग में जुटी है।

यह भी पढ़ें

https://topchand.com/why-caa-nrc-protest-no-one-can-explain-it-better-than/

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *