पढ़ने लायक

भाजपा की जनपद सदस्य गई कांग्रेसियों संग, इधर पति ने खाया जहर, निकला कोलगेट

जशपुर। छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले के बगीचा ब्लॉक में इस वक्त एक अलग ही तनाव चल रहा है। एक पति ने अपनी पत्नी को जनपद का चुनाव लड़ाया, खूब मेहनत कर जीताया भी.. लेकिन, इसके बाद उसका टेंशन बढ़ गया है। पत्नी अपने छोटी बच्ची के साथ पिछले कुछ दिनों से बाहर है, या यूँ कहे जनपद अध्यक्ष बनने के लिए किसी ने उठा लिया है और अन्य जनपद सदस्यों के साथ उसे भी पिकनिक पर ले गया है।

इस बीच पति का रो-रो कर बुरा हाल है। नशे की हालत में उसका एक वीडियो वायरल हो रहा है, कह रहा है मेरी पत्नी को उन लोग खा जाएंगे.. लेकिन मेरे को उससे मतलब नहीं.. मेरी बच्ची को लाकर दे दें। एक अन्य वीडियो में वह जमीन पर लेटे दिखाई पड़ रहा है, कहा जा रहा है.. उसने सुसाइड अटेम्प्ट किया है। मामले में सूत्रों ने बताया कि दो लोग आए थे जो नेहरु को कोलगेट खिलाकर वीडियो बनाए और पुरे घटना को नाटकीय ढंग से प्रस्तुत किया गया इसके बाद अंबिकापुर रिफर करने का हल्ला कर उसे लेकर कहीं चले गए हैं।

दरअसल, बगीचा जनपद पंचायत के क्षेत्र क्रमांक सात से जीती श्रीमती कलावती पैकरा के पति नेहरु का आरोप है कि, बीते आठ फ़रवरी को उसकी पत्नी का अपहरण हो गया है, और पतिदेव का सीधा आरोप है कि अपहरण करने वाले जनपद अध्यक्ष दावेदार जगन भगत और जनपद सदस्य आशिक़ा हैं। कथित तौर पर लापता जनपद सदस्य कलावती के पति नेहरु की यह भी दलील है कि थाने में दरोग़ा साहब रिपोर्ट नहीं लिख रहे हैं।

हालाँकि इसके ठीक बाद अशिका ने व्हाट्सएप पर एक पत्र भेजा जिसे लेकर यह दावा है कि यह पत्र कलावती का है। जिसमें लिखा गया है…“मैं अपने साथियों के साथ दर्शन के लिए बाहर आई हुई हूँ जिसकी जानकारी मेरे पति को भी है। जो बयान चलाया जा रहा है उसकी जाँच की जाए.. मैं 13 फ़रवरी को आकर बयान दर्ज कराउंगी”

जनपद अध्यक्ष की कुर्सी का है, साम दाम दंड भेद की सारी नीतियाँ हर पैंतरा आज़माया जा रहा है। जनपद सदस्यों को तीर्थ घूमाने के नाम पर ले जाते हुए उन्हें अपने पक्षों लामबंद करने का खेल अक्सर ऐसे चुनावों के बाद होता है। लेकिन इस मामले में पति जी की बिलखती तस्वीरों और वीडियो में दिए गए बयान ने भी को थोड़ा असहज कर दिया है। खबरें हैं कि कोई सुनवाई ना होने से दुखी जनपद सदस्य के पति ने अपना मोबाइल भी तोड़ दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.