कवर्धा। छत्तीसगढ़ के कवर्धा के ग्राम बिरोड़ा में एक मासूम बच्चा 26 दिसंबर की शाम हाथ में बैडमिंटन और चिड़िया लेकर घर के नजदीक खेलने निकला था। लेकिन, वापस नहीं आया। आता भी कैसे.. कुछ पैसे के लालची नवयुवकों ने उसकी दर्दनाक हत्या को जो अंजाम दे दिया था।


पुलिस ने मासूम का कंकाल घटना के 36 दिन बाद जमीन खोद कर निकाला है। पुलिस ने इस मामले में गांव के ही तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने बच्चे का अपहरण कर उसकी हत्या का गुनाह कबूल कर लिया है।


अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कवर्धा ने बताया कि पुलिस ने हिमांशु की तलाश में कई टीम बनायी, लेकिन कोई कामयाबी नहीं मिला। इधर काफी दिन की तलाश में पुलिस को गांव के ही एक युवक यशवंत पाली पर शक हुआ। पुलिस ने जब उसे हिरासत में लेकर पूछताछ किया तो उसने गुनाह कबूल कर लिया। आरोपी ने फिरौती के लिए अपहरण की बात कबूल करते हुए बताया कि भागने की कोशिश करने की वजह से उसने बच्चे की हत्या कर दी।


इस मामले में पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर हिमांशु का कंकाल जब्त किया है। वहीं बच्चे के कपड़े, जूट का बोरा, कंबल और कंकाल को भी जब्त किया है। पुलिस ने इस मामले में यशवंत के अलावा कोमल और हेमंत को भी गिरफ्तार किया है। आरोपी ने बताया कि बच्चे का अपहरण कर वो सभी उसे पास के स्कूल ले गये और मुंह पर टेप चिपकाने लगे। बच्चा जब चिल्लाने लगा तो आरोपियों ने गुस्से में उसका गला दबा दिया और पत्थर से सर कुचल दिया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *