रायपुर, ड्रंक एंड ड्राईव और पुलिस से बदसलूकी के मामले में कथित आरटीआई कार्यकर्ता भूपेंद्र सिह की जमानत याचिका खारिज हो गई है। लेकिन कोर्ट ने जमानत न देने के पीछे पुलिस के जिन जांच बिंदुओं को आधार माना है वह काफी गंभीर है।
पुलिस ने भूपेंद्र सिंह को जमानत न देने पर आपत्ति करते हुए न्यायालय में कहा है कि, भूपेंद्र सिंह आपराधिक प्रवृति का है। उसके खिलाफ आाजाद चौक थाने में पहले से धारा 379,34,427,447 जैसी धाराओं में अपराध दर्ज है।
एक जनवरी को जब भूपेंद्र सिंह का फोन पुलिस ने जब्त किया इसके बाद भी सोशल मीडिया आपरेट हो रहा था। पुलिस ने कहा है कि, भूपेंद्र सिंह जमीन और देह व्यापार के मामलों में संलग्न है, आरोपी के खिलाफ ब्लेकमेल करने, अवैध जमीन देह व्यापार करने की शिकायत मिली है। रायगढ़ में एक युवति से रकम तय करने जैसे साक्ष्य मिले हैं। इसके अलावा हनीट्रैप लड़कियों की अफरातफरी कर रकम वसूली करने के शिकायत मिले हैं।
इसके अलावा कुछ बड़े लोगों के निर्देश पर एजेंडा बनाकर शासन के खिलाफ अनावश्यक रूप से झूठी प्रचार प्रसार सामग्री प्रसारित करने का आरोप भी भूपेंद्र सिंह के खिलाफ लगे हैं।
न्यायालय ने जमानत याचिका खारिच करने के दौरान पुलिस की इन आपत्तियों को भी आधार माना है।
गौरतलब है कि, एक जनवरी को आरोपी भूपेंद्र सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। आरोपी शराब पीकर गाड़ी चला रहा था उसकी गाड़ी से शराब की बोतलें जब्त हुई थी। बाद में पुलिस की वर्दी उतरवा देने की धमकी समेत जातिगत गाली गलौच करने संबंधी अपराध में अरोपी को जेल भेज दिया गया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *