पढ़ने लायक

‘राष्ट्रीय आदिवासी महोत्सव संस्कृतियों को आपस में जोड़ने का महोत्सव है’…बिना कुछ कहे केंद्र पर तंज कस गए राहुल…

रायपुर: ‘राष्ट्रीय आदिवासी महोत्सव 2019’ के मंच से पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर तंज कसे. मुख्य अतिथि के तौर पर बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा- “भारत की अर्थव्यवस्था, सभी धर्मों, जातियों को साथ में लिए बिना तरक्की नहीं कर सकती है। भाई-भाई को लड़ाकर विकास नहीं किया जा सकता है।

राहुल गांधी ने कहा “आदिवासी, किसान यहीं हमारी अर्थव्यवस्था की रीढ़ है, यहीं है जो देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ाते है।अगर आदिवासियों की बात हो, तो मैं सबसे आगे रहता हूँ। राष्ट्रीय आदिवासी महोत्सव संस्कृतियों को आपस में जोड़ने का महोत्सव है,” .

छत्तीसगढ़ सरकार की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा..”छत्तीसगढ़ में आदिवासियों की बात सुनी जा रही है, उन्हें उनका हक दिया जा रहा है। तेंदूपत्ता समर्थन मूल्य हो या आदिवासियों की जमीन वापसी यहां की विधानसभा में सभी की आवाज सुनी जाती है। आज छत्तीसगढ़ में हिंसा में कमी आई है।और यहां की अर्थव्यवस्था बाकी प्रदेशों के अर्थव्यवस्था से काफी बेहतर है।”

राहुल गांधी ने आगे कहा “जब तक लोकसभा और राज्य की विधानसभाओं में हर भारतीय की आवाज नहीं सुनी जाएगी, तब तक अर्थव्यवस्था और रोजगार का कुछ नहीं हो सकता। किसानों की आत्महत्या, अर्थव्यवस्था की सेहत, बेरोजगारी के बारे में आपको सब पता है। आदिवासी और पिछड़ों को शामिल किए बिना हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था नहीं सुधारी जा सकती है। हमें सभी को जोड़कर चलना होगा।”
बता दें कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन रायपुर के साईंस कॉलेज मैदान में 27 से 29 दिसंबर तक आयोजित हो रहा है। तीन दिवसीय इस नृत्य महोत्सव में देश के 25 राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ ही 6 देशों के लगभग 1350 से अधिक प्रतिभागी अपनी जनजातीय कला संस्कृति का प्रदर्शन करेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.