पढ़ने लायक

मनरेगा और ग्रामीण विकास के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने के लिए छत्तीसगढ़ को मिले 22 राष्ट्रीय पुरस्कार, मुख्यमंत्री बघेल और स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने दी बधाई

रायपुर। राज्य शासन द्वारा विभिन्न योजनाओं के लिए छत्तीसगढ़ को विभिन्न श्रेणियों में राष्ट्रीय स्तर पर 22 पुरस्कार प्रदान किए गए। केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा नई दिल्ली के राष्ट्रीय कृषि विज्ञान परिसर पूसा में आयोजित पुरस्कार समारोह में छत्तीसगढ़ को विभिन्न योजनाओं के तहत पुरस्कार दिये।

प्रदेश की ओर से प्रमुख सचिव सुब्रत साहू ने केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के हाथों पुरस्कार ग्रहण किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने इसके लिए विभाग के अधिकारियों और प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

छत्तीसगढ़ में मनरेगा, प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क विकास योजना के अंतर्गत किए जा रहे कार्यों को एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली है। योजना को बेहतर तरीके से जमीनी स्तर पर लागू करने के लिए प्रदेश का चयन केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा विभिन्न श्रेणियों में पुरस्कारों के लिए किया गया है।

इन पुरस्कारों में मनरेगा के लिए राज्यों को दिए जाने वाले तीन जिलों, विकासखंडों को दिए जाने वाले एक-एक और ग्राम पंचायतों के लिए दो पुरस्कार शामिल हैं।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत गुणवत्ता की श्रेणी में छत्तीसगढ़ को दूसरा पुरस्कार प्रदान किया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण में ओवरऑल परफॉर्मेंस में पहला पुरस्कार दिया गया। इस योजना के तहत जिले में रायपुर को प्रथम और धमतरी जिले को दूसरा स्थान मिला है।

ओवरऑल डेवलपमेंट के आधार पर छत्तीसगढ़ को दूसरा और जिले में रायपुर को पहला पुरस्कार मिला है। योजना के तहत राजमिस्त्रियों के प्रशिक्षण और 12 महीने में सर्वाधिक घर बनाने में भी छत्तीसगढ़ को प्रथम पुरस्कार दिया गया है। पंचायतों में रायगढ़ के पोड़ीछाल और नारायणपुर के छोटे डोंगर को पुरस्कृत किया गया।

मनरेगा के क्षेत्र में मिले 7 पुरस्कार

प्रदेश को मनरेगा के तहत जियो-मनरेगा इनीशिएटिव्ह के क्रियान्वयन में देशभर में दूसरा, कार्यपूर्णता में दूसरा और सुशासन (Good Governance) इनीशिएटिव्ह के क्रियान्वयन में दूसरा स्थान मिला है।

जिला प्रशासन द्वारा योजना को प्रभावी रूप से लागु करने के लिए मुंगेली का चयन किया गया है। मुंगेली के कलेक्टर और जिला कार्यक्रम समन्वयक (मनरेगा) नरेन्द्र भूरे ने यह पुरस्कार ग्रहण किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.