स्टोरी

कुटुमसर गुफा में आपने देखे होंगे स्तंभ, क्या है इसके बनने के कारण, जानिए

क्या है कुटुमसर

यह एक प्राकृतिक गुफा है जो अपने अंधेरे में कई रहस्य छुपे हुए हैं, जिनका पता आज भी लगाया जा रहा है। यह माना जाता है कि कभी कुटुमसर गुफ़ा में आदिमानवों का बसेरा था। कुटुमसर गुफ़ा में अंधी मछलियाँ पाई जाती हैं। कई वैज्ञानिकों तथा ज़ूलॉजिस्ट ने यहां पर अपना शोध कार्य किया है जिसके कारण इस गुफा को ग्लोबल फेम मिला।

कहाँ पर है कुटुमसर
कुटुमसर गुफ़ा छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग के कांगेर वेली नेशनल पार्क में स्थित है। यह जगदलपुर से 35 km की दुरी पर है।

गुफा बहुत पुरानी है, किसने कहा

इस गुफ़ा की खोज 1951 में प्रसिद्ध भूगोल वैज्ञानिक डॉ. शंकर तिवारी ने की थी। स्थानीय बोलचाल की भाषा में ‘कोटमसर’ का अर्थ “पानी से घिरा क़िला” है। भू-गर्भ शास्त्रियों ने इस गुफ़ा में प्रागैतिहासिक मनुष्यों के रहने के अवशेष भी पाए गए हैं। उनके अध्ययन के अनुसार पूर्व में यह पूरा इलाका पानी में डूबा हुआ था और कोटमसर की गुफ़ाओं के बाहरी और आंतरिक हिस्से के वैज्ञानिक अध्ययन से इसकी पुष्टि भी होती है।

गुफ़ा का निर्माण भी प्राकृतिक परिवर्तनों के कारण पानी के बहाव से हुआ है। लाइम स्टोन से बनी इस गुफ़ा की बाहरी और आन्तरिक सतह का अध्ययन बताता है कि इसका निर्माण लगभग 250 करोड़ वर्ष पूर्व का हुआ है। फ़िजीकल रिसर्च लेबोरेटरी, अहमदाबाद, बीरबल साहनी इंस्टीटयूट ऑफ़ पेल्कोबाटनी, लखनऊ और भू-गर्भ अध्ययनशाला, लखनऊ के भू-गर्भ वैज्ञानिकों ने अपने रिसर्च में कार्बन डेटिंग प्रणाली से अध्ययन कर इस गुफ़ा में प्रागैतिहासिक मानवों के रहने की भी बात की है।

गुफा जाने का मार्ग

गुफा द्वार से नीचे जाने पर एक के बाद एक तीन छोटे झरने मिलते हैं। पहला झरना तीस फिट उँचाई का है। इससे नीचे उतरने के बाद लगभग साढे तीन इंच चौड़ा, पैंतालीस इंच उँचा व 65 इंच लंबा एक अंधेरा गलियारा मिलता है। इसके दाहिनी ओर चूने की चट्टानें हैं, जिन पर पानी के बहने के निशान और बांयी ओर बंद छत पर लटकते हुए खम्भे दिखाई देते हैं।

गुफा में स्तम्भ के बनने का कारण

इस गुफ़ा की सबसे ख़ास बात यह है कि यहां जो स्तम्भ बने हैं, वह अपने आप प्राकृतिक तरीके से बने हैं। पानी की बूंदों के साथ जो कैल्सियम गिरता गया, उसने धीरे-धीरे स्तंभों का रूप ग्रहण कर लिया और अब गुफ़ा में चमकते हुए खम्भे दिखाई देते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.