रायपुर। प्रदेश में महिलाओं के साथ बलात्कार और हत्या की बढ़ती घटनाओं ने कानून व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है। इसे लेकर विपक्ष सरकार को घेरने में लगी है, भाजपा का कहना है कि प्रदेश में सरकार पुलिस को ताश के पत्ते की तरह इस्तेमाल कर रही हैं। ऐसे में पुलिस के मुखिया डीएम अवस्थी ने ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए नया फार्मूला तैयार किया है। इसके लिए बुधवार को सभी जिलों के वरिष्ठ अधिकारियों से डीजीपी ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिये बैठक की है। और उन्हें अपने नये प्लान के बारे में बताया है, जिससे महिलाओं के साथ हो रही घटनाओं को रोक सके।  

अवस्थी ने स्पेशल मोनिटरिंग सेल फॉर क्राईम अगेंस्ट वूमेन बनाने की बात की हैं। इस सेल को लीड महिला आईपीएस नेहा चम्पावत करेंगी। इस सेल के जरिये क़ोई भी लड़की या महिला किसी मुसीबत में हो तो इनसे संपर्क कर सकती है। इसके लिए विभाग की तरफ से हेल्प लाइन नंबर 9479191667 भी जारी कर दिया गया हैं। इतना ही नहीं महिलाओं की शिकायत दर्ज कराने के लिए [email protected] ईमेल भी जारी किया है , इसमें कभी भी किसी भी वक्त अपनी शिकायत पुलिस तक भेजी जा सकती है ताकि पुलिस क्विक रिस्पांस कर सके।

डीजीपी अवस्थी ने  निर्देश दिये हैं कि जिले में संवेदनशील स्थानों को चिन्ह्ति कर महिला हेल्प लाईन नम्बर 1091 और डायल 112 का होर्डिंग्स/फ्लैक्स लगाकर व्यापक प्रचार-प्रसार करें। ग्रामीण क्षेत्रों में भी नम्बरों के संबंध में जागरूकता फैलाई जाये। महिला पेट्रोलिंग टीम संवेदनशील स्थानों में लगातार भ्रमण करें एवं किसी प्रकार शिकायत मिलने पर तत्काल कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि राज्य के 6 जिलों रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा एवं रायगढ़ में महिला विरूद्ध अपराध अनुसंधान इकाई (IUCAW) संचालित है। इन इकाईयों द्वारा महिला अपराधों की शत-प्रतिशत मोनिटरिंग कर विवेचना की प्रगति से प्रतिदिन पुलिस मुख्यालय को अवगत करायें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *