पढ़ने लायक

झारखंड में फिर जवान ने चलाई गोली, दो की मौत..2 घायल

रायपुर। झारखंड में चुनावी ड्यूटी करने गए छत्तीसगढ़ शास्त्र बल के जवान द्वारा अपने कंपनी कमांडर की हत्या के बाद खुदकुशी की घटना को 12 घंटे भी नहीं हुए थे और फिर एक जवान ने अपने दो अफसरों को गोली मारकर हत्या कर दी। और फिर खुद को गोली मार ली। इस घटना में गोली मारने वाले आरोपी जवान और एक अन्य जवान घायल हो गए हैं।

जानकारी के मुताबिक छत्तीसगढ़ के सुकमा से चुनाव ड्यूटी पर बेरमो विधानसभा क्षेत्र पहुंची सीआरपीएफ की 226 बटालियन के जवान दीपेंद्र यादव ने सोमवार रात अपने दो अफसरों को गोली मारने के बाद खुद को भी गोली मार ली। घटना में असिस्टेंट कमांडेंट साहुल हसन और एएसआई सह मेस इंचार्ज पी भुइयां की मौके पर ही मौत हो गई। दीपेंद्र और एक अन्य जवान हरिश्चंद्र गोकाई घायल हैं। घटना रात लगभग 10.30 बजे नक्सल प्रभावित चतरोपट्टी थाना क्षेत्र के कुर्कनालो की है। 


कुर्कनालो के ही एक स्कूल में सीआरपीएफ की बटालियन ठहरी हुई थी। वहीं आपसी विवाद के बाद ताबड़तोड़ गोलियां चलीं। घटना के बाद बटालियन में अफरातफरी मच गई। घायल व मृतकों को गोमिया आर्डियर हॉस्पिटल लाया गया। वहां बेरमो एसडीओ प्रेम रंजन, एसडीपीओ अंजनी अंजन, सीओ ओमप्रकाश मंडल, बीडीओ मोनी कुमारी समेत गोमिया समेत आसपास के थानों की पुलिस पहुंची। वहां से घायल जवानों को स्वांग लाया गया, जहां से एयरलिफ्ट कर रांची ले जाया गया। 


बोकारो डीआईजी प्रभात कुमार ने घटना की आरंभिक वजह छुट्टी संबंधी विवाद बताया है। डीआईजी ने बताया कि घटना के प्रारंभिक कारणों में सबसे पहले छुट्टी को लेकर झगड़ा शुरू होने की बात सामने आई है। संभवत: दीपेंद्र ने इसी कारण गोली मारी। बाद में उसने खुद को भी गोली मार ली, जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हुआ।


फायरिंग में जान गंवाने वाले असिस्टेंट कमांडेंट केरल के रहने वाले बताए जा रहे हैं, जबकि मारे गए एएसआई और घायल जवान मूल रूप से कहां के हैं, पुलिस इसकी जानकारी जुटा रही है। बटालियन के साथ आए समादेष्टा अखिलेश कुमार ने इस बाबत कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.