पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर को जान से मारने की धमकी मिली है,इसकी जानकारी उन्होंने विधानसभा के शीतकालीन सत्र में प्रश्नकाल के दौरान दी है, उन्होंने कहा कि यह धमकी कल सदन में प्रश्न पूछने के बाद देर रात फोन कर दी गई है।अजय चंद्राकर ने कहा है कि जब प्रश्न पूछने पर ही जान से मारने की धमकी मिल रही है, तो फिर प्रश्नकाल का क्या फायदा? सदन में अजय चंद्राकर के इतना कहते ही भाजपा विधायकों ने प्रश्नकाल के लिए आपत्ति जताई।

 इस पर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने सवाल किया कि प्रदेश में माफियाओं को संरक्षण कौन दे रहा है।जाहिर है नेता प्रतिपक्ष का इशारा प्रदेश सरकार पर ही था। इस पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ।चरणदास महंत ने कहा कि संसदीय कार्यमंत्री जांच कराकर जानकारी दें।

संसदीय कार्यमंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा  हमें फोन कर अजय चंद्राकर ने जानकारी दी।उन्हें कोई जान से मारने की धमकी दे रहा है।विधायको की सुरक्षा सरकार की जिम्मेदारी है।अजय जी ही नहीं नए सदस्यों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है।जिस नम्बर से फोन आया था उसकी गिरफ्तारी हो गई है।

पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने इसकी शिकायत की मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से भी की थी, इसके त्वरित कार्यवाही करते हुए धामकी देने वाले आरोपी को पकड़ लिया गया इसकी जानकारी खुद सीएम ने दी।

अजय चंद्राकर को धमकी देने वाले का नाम भिलाई के गुंडा रजिस्टर में दर्ज है, जिसका नाम जसपाल सिंह उर्फ गोल्डी है। इस मामले में पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर 12 बजे  एफआईआर दर्ज  कराने जाएंगे। बताया जा रहा है कि आरोपी गोल्डी  पहले धमतरी में रेत खदान चलाता था, उसकी खदान को अजय चंद्राकर के रिश्तेदार ने प्रभाव का इस्तेमाल करके बन्द करवा दिया था, इससे गोल्डी नाराज था ।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *