पढ़ने लायक

जब बाढ़ में फंसे लंगूरों ने रेस्क्यू करने आये प्रशासन को दिखा दिया ठेंगा

कांकेर जिला में इस समय बाढ़ में फंसे लंगूरों को बचाने के लिए जिला प्रशासन को कड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ रहा है। यहां 100 से ज्यादा लंगूर बारिश के बाद एक छोटी पहाड़ी के बीच फंस गए। दुधवा जलाशय में मूसलाधार बारिश की वजह से काफी पानी भर गया। इसके बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने यहां एक पुल बनाकर लंगूरों के रेस्क्यू की कोशिश की लेकिन लंगूर वापस आने को राजी नहीं..

कांकेर जिले के जंगलों में लंगूरों की सहायता के लिए प्रशासन को आगे आना पड़ा। यहां 100 से ज्यादा लंगूर बारिश के बाद एक छोटी पहाड़ी के बीच फंस गए। दुधवा जलाशय में मूसलाधार बारिश की वजह से काफी पानी भर गया। इसके बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने यहां एक सेतु (पुल) बनाकर लंगूरों के रेस्क्यू की कोशिश की लेकिन लंगूर अभी इलाके को छोड़ने को तैयार नहीं हैं। 

लंगूरों के रेस्क्यू के लिए वन विभाग ने तेजी से बांस की मदद से 300 मीटर का एक पुल बनाया है। इसके जरिए लंगूरों को वापस दूसरी तरफ लाने की कोशिश की गई। लेकिन अब तक उन्होंने वापस आने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है। जंगली इलाके के टापू में स्थित पेड़ों पर बहुत सारे फल लदे हुए हैं और लंगूरों को लगता है कि इससे अच्छा मौका उन्हें नहीं मिलेगा, लिहाजा प्रशासन की कवायद अब तक कामयाब नहीं हो सकी है। कांकेर के कलेक्टर केएल चौहान ने बताया कि जलाशय के पास फंसे लंगूरों के लिए हर दूसरे दिन नाव के जरिए भोजन भेजा रहा है। 

लंगूरों तक मदद पहुंचाने के लिए चार दिन में सेतु तैयार किया गया। इसमें बांस के 500 पोल, 200 लकड़ी के लट्ठे, 50 लोहे की पाइप और 30 किलो रस्सी का इस्तेमाल किया गया। 15 नवंबर को एक स्थानीय मछुआरे ने लंगूरों को फंसा देखा था, इसके बाद उसने प्रशासन को जानकारी दी। गांववालों के मुताबिक हर मॉनसून के दौरान बंदर इस छोटी पहाड़ी पर चले जाते हैं और कुछ दिनों के बाद जब पानी कम होता है तो वापस आ जाते हैं। 

इस बीच बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने लंगूरों के तुरंत रेस्क्यू की मांग की है। कार्यकर्ता यहां हनुमान चालीसा का पाठ भी करा रहे हैं। वन विभाग भी लंगूरों को वापस लाने की काफी कोशिश कर रहा है। सेतु पर फल और खाने की दूसरी चीजें बांधी गई हैं, जिससे लंगूर अपना इरादा बदल दें। लेकिन अब तक लंगूर न तो फलों के लालच में आए हैं, न ही वह सेतु के पास आने को तैयार हैं। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.