पढ़ने लायक

कांग्रेस ने किया 10 लाख किसानों से मोदी के नाम पत्र आने का दावा, तो भाजपा ने कहा जय स्तंभ चौक में गिन लेते हैं

दिल्ली आंदोलन को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने दावा किया है कि राज्य के 10  लाख से अधिक किसानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पत्र भेजा है, दिनों-दिन इसमें इजाफा हो रहा है। 30 नवंबर को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में हजारों किसान और कांग्रेस कार्यकर्त्ता दिल्ली जाएंगे और आंदोलन कर इन तमाम पत्रों को पीएम मोदी को सौंपेंगे। कांग्रेस के महामंत्री और मिडिया प्रभारी शैलेश नितिन त्रिवेदी ने बताया की 30 नवंबर दिल्ली कूच करने संगठन ने पूरी तैयारी कर लिया है। पुरे प्रान्त से अभी तक लगभग 10 लाख पत्र आ चुके हैं। अभी लगभग 5 लाख आने की सम्भावना और हैं। केंद्र सरकार के शिथिल व्यवहार के खिलाफ छत्तीसगढ़ के किसान और परिवार हमारे साथ हैं।

कांग्रेस के इस दावे को भाजपा ने सिरे से नकार दिया है और चुनौती दी है। बीजेपी प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा है कि जय स्तंभ चौक में पंडाल लगाकर इसकी गिनती कर लेते हैं। दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। श्रीवास्तव ने कहा कि भूपेश बघेल सरकार किसानों को दिग्भ्रमित करने की काम कर रही हैं। राज्य में 1 नवंबर से धान की खरीदी की जाती थी लेकिन उसे 1 दिसंबर कर कोचियों को मौका दे रहे हैं और प्रदेश में 85 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी का झूठा आंकड़ा दिया जाएगा। नवंबर माह में गांव में किसानों के घरों में शादी हो रही है ऐसे में वे बिचौलियों और कोचियों को अपना धान बेचने के लिए मजबूर हैं।

इधर, राज्य सरकार की ओर से मुख्यमंत्री भूपेश ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनसे फिर आग्रह किया है। उन्होंने ने इसमें मुलकात करने के लिए समय मांगा है और इस मसले पर नियम की शिथिल करने का अनुरोध किया है। इस पत्र के बाद अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात करते हैं तो ऐसी स्थिति में केंद्र सरकार के खिलाफ यह आंदोलन थम सकता हैं।

बता दें कि छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश की सरकार किसानों के हित में लगातार प्रयास जारी रखे हुए हैं। जिसके 15 नवंबर को दिल्ली कूच का कार्यक्रम भी बना लिया गया था। पूरा योजना बन चुकी थी।  मगर राम मंदिर मुद्दे पर फैसले आ जाने के बाद कार्यक्रम स्थगित कर आगे की तिथि पर टाल दिया गया था। बीते दिनों कांग्रेस कमेटी की बैठक में तय किया गया था कि 30 नवम्बर को दिल्ली कूच का कार्यक्रम समर्थन मूल्य 2500 रुपये की मांग को लेकर किया जायेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.