पढ़ने लायक

हार्डकोर नक्सली बदरू समेत 9 ने किया सरेंडर, एसपी चौबे की हत्या में थी मुख्य भूमिका

सुकमा। जिला पुलिस बल को एक बार फिर बड़ी सफलता हासिल हुई है। 10 लाख का इनामी हार्डकोर नक्सली बदरू समेत 9 लोगों ने सोमवार को पुलिस के समक्ष पेश होकर आत्मसर्पण किया है। बदरू और उसके साथी की मदनवाडा और राजनांदगांव के आस-पास हुई नक्सली हमले में मुख्य भूमिका रही थी। बदरू और उसके साथियों की मदद से नक्सलियों की कई ख़ुफ़िया जानकारी हासिल करने में मदद मिलेगी।

सुकमा एएसपी सिद्धार्थ तिवारी ने आत्मसमर्पण की पुष्टि करते हुए बताया है कि बदरू ने  नक्सलियों का 75 किलो का जरेटिन जब्त कराने में मदद की। वहीं इस आत्मसमर्पित नक्सलियों में बदरू की पत्नी भी शामिल हैं।

क्या था मदनवाडा हमला

2 जुलाई 2009 को राजनांदगांव के मदनवाड़ा में नक्सली हमला हुआ था। उस वक्त विनोद कुमार चौबे राजनांदगांव एसपी और मुकेश गुप्ता आईजी थे। नक्सलियों के दो जवानों को गोली मारने की सूचना पर एसपी चौबे जवानों के साथ निकल पड़े। मदनवाड़ा के पास नक्सलियों ने पहले बारुदी सुरंग विस्फोट किया फिर उन पर गोलियों की बौछार कर दी थीत्र इस घटना में अफसरों की भूमिका को लेकर सवाल उठते रहे हैं। राजनांदगांव जिले में ये अब तक की सबसे बड़ी नक्सली वारदाता थी। इसी मामले में अब नए सिरे जांच के आदेश दिए गए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.