राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई में संवैधानिक पीठ ने फैसला सुनाते हुए निर्मोही अखाड़ा और शिया वक्फ बोर्ड का दावा खारिज कर दिया है। विवादित जमीन पर रामलला का हक माना गया है। साथ ही मुस्लिम पक्ष को किसी और जगह जमीन देने का आदेश दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को ट्रस्ट बनाने का आदेश दिया है ।

इस पर प्रदेश के दिग्गजों ने अपनी अपनी प्रतिक्रिया दी है

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा “अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का सम्मान है।  हम सभी सम्बंधित पक्षों व समुदायों से निवेदन करते हैं कि भारत के संविधान में स्थापित “सर्वधर्म समभाव” तथा भाईचारे के उच्च मूल्यों को निभाते हुए अमन – चैन का वातावरण बनाए रखे ।

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि आज श्री रामजन्मभूमि पर माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने सर्वहितकारी निर्णय सुनाकर देशवासियों की दशकों की प्रतीक्षा का प्रतिफल दिया है। हम सभी न्यायमूर्तियों व पक्षों का आभार व्यक्त कर इस निर्णय को स्वीकार करते हैं एवं देशवासियों से मेरा आग्रह है कि इस फैसले का सम्मान करें यह दिवस हमारे लिए ऐतिहासिक है एवं ये हमारी जिम्मेदारी है कि हम इसे सुंदर व सौहार्दपूर्ण बनाने में अपना योगदान दें एवं भारत की एकता व लोकतंत्र का आदर कर आपसी भाईचारे को बनाये रखें।

वहीं जनता कांग्रेस चीफ़ व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का कहना है-  अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला ऐतिहासिक है। अयोध्या में अब राम मंदिर के साथ-साथ ऐतिहासिक मस्जिद भी बनाया जाना चाहिए। मंदिर और मस्जिद निर्माण में केंद्र और राज्य सरकार दोनों को साथ आना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट से दोनों को संतुष्ट होना चाहिए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *