Uncategorizedफर्जी पकड़

छत्तीसगढ़ में गंगाजल की कसम वाली तस्वीर का ये है अकाट्य सत्य

फर्जी पकड़ में आज खबर है, सोशल मीडिया के अफवाहों और झूठ के बाजार में तेजी से वायरल हो रही कांग्रेस सरकार की गंगाजल की कसम वाली तस्वीर की।

एक फोटो तेजी से फेसबुक, सोशल मीडिया में वायरल हो रही , जिसमें प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कांग्रेस के पूर्व मंत्री आरपीएन सिंह, पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता राधिका खेड़ा, प्रवक्ता जयवीर शेरगिल और छत्तीसगढ़ कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री शैलेश नितिन त्रिवेदी हाथ में गंगाजल लिए कसम खाते नजर आ रहे है…

वायरल खबरों के अनुसार गंगाजल की कसम छत्तीसगढ़ में पूर्ण शराबबंदी के लिए खाई गयी थी लेकिन प्रदेश में अब तक शराबबंदी नहीं हुई है, किसी ने लिखा है की यह कसम बेरोजगारी भत्ता के लिए खायी गयी थी लेकिन नहीं दिया गया है.. कुछ  फ़ोटो शेयर करने वालो ने लिखा है कि..”छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने माँ गंगा की झूठी कसम खाई है और वह अब अपने वादों से मुकर गई है”।

इस तेजी से वायरल हो रही खबर में आखिर कितनी सच्चाई है? इसकी पड़ताल करने में हमनें पाया कि, दरअसल वायरल हो रही तस्वीर छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पूर्व दिनांक 15/11/2019 के दिन प्रदेश कांग्रेस कार्यलय में की गई प्रेसवार्ता की है।

इस प्रेसवार्ता के दौरान कांग्रेस प्रवक्ताओं ने हाथ में गंगाजल लेकर “प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने की स्तिथि में 10 दिन के भीतर किसानों की कर्जमाफी करने की कसम खाई थी”, विधानसभा चुनाव के दौरान यह खबर फैलाई जा रही थी की कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में कर्जमाफी का झूठा वादा जनता से किया है, जिसे दूर करने के लिए प्रदेश कार्यालय में गंगाजल की कसम प्रवक्ताओं द्वारा ली गयी थी, जिसे अब झूठे तथ्यों के साथ वायरल किया जा रहा है।

हमारी फर्जी पकड़ पड़ताल में यह खबर पूर्णत फर्जी साबित हुई है,

कर्जमाफी के लिए गंगाजल की कसम खाने वाली तस्वीर को गलत तरीके से सोशल मीडिया में वायरल किया जा रहा है। इससे सतर्क रहें।

अगर आप इस खबर को किसी सोशल मीडिया पोस्ट में देखे तो हमारा यह लिंक शेयर कर सकते है, ताकि झूठ का यह खेल रुक जाए। इस तरह की और भी फर्जी खबरों की सच्चाई के लिए हमसे जुड़े रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.